ग़ज़ल

ग़ज़ल


 


इन ज़ख़्मों को भरना होगा


फिर यादों में ढ़लना होगा


 


जीवन इक है चलता पहिया


हर राही को चलना होगा


 


जब तक धरती चाँद सितारे


मानव को कुछ करना होगा


 


जीवन जीना आसान कहाँ है


पलपल हमको लड़ना होगा


 


उल्फत करना मत भूलो तुम


पाठ यही इक पढ़ना होगा


 


प्रभु को दिल में हरदम रक्खो


इतना सिमरन करना होगा I



 


Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)