दोहे

इस मदमांत बाग के, बिगड़े सब दस्तूर


बदबू खिल खिलकर हंसे, माथा धुने कपूर


 


त्याग तपस्या वंदगी, एक न आए काम


दुनियां का बहिरा ख़ुदा, उलट देत परिणाम


 


 


वह अब तक समझा नहीं, हूँ दो पाटों बीच


और गाझिन सी हो गई, वह टेªजेडी नीच


 


तपा बहुत पिघला बहुत, मिली थोक में पीर


तूं क्या? सब रोए यहाँ, मीरा मीर कबीर


 



Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य