उमस का गाँव - कविता

लू की नदी किनारे पर है


एक उमस का गाँव.....


                पानी का अभाव जैसे


                सच्चाई का व्यवहार


                स्वेद बहुत सस्ता जैसे


                हो रिश्वत का बाजार


सभी कह रहे बालू में ही


खींचो अपनी नाव....


                कुएं हुए अंधे जैसे हो


                चैपालों का न्याय


                अंधड़, जैसे चले गाँव में


                मुखिया जी की राय


पवन कि जैसे भोले भालों


का, न कहीं पर ठाँव।


Popular posts from this blog

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य