ग़ज़लें

न हो उदास कि दस्ते-ख़ुदा1 है सर पे तिरे


सवाब2 पाया उसी ने, झुका जो दर पे तिरे


तुझे ख़बर भी न होगी वो झोली भर देगा


बहुत हसीन-सा मंज़र3 दिखेगा घर पे तिरे


ग़मे-हयात4 से तय है, ख़ुदा निकालेगा


हिफ़ाज़तें5 जो करे साथ रह सफ़र पे तिरे


तिरे जलाल6 को मिलने न ख़ाक7 में देगा


वो रहमतें ही करेगा सदा हुनर8 पे तिरे


तिरी दुआ में अगर 'नाज़ली' है सच्चाई


ख़ुशी की बारिशें बरसाएगा वो घर पे तिरे



Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

बाल स्वरूप राही