बच्चे

बच्चे करते बड़ी शरारत


होती ख़ूब लड़ाई,


उनकी प्यारी हरकत देख


माँ मन में मुस्काई।।


 


होगी अगर शरारत कोई


डाँट लगेगी तुमको


चुन्नी मुन्नी टिन्नी झुमकी


रिंकू पिंकी अब मत रो।।


 


चलो उठो अब करो पढ़ाई


देखो टीचर आई।


पुस्तक हाथ में आते ही


नींद बच्चों को आई।।


 


मेहनत करो खूब तुम अब


जग में नाम कमाओ।


हम सबका आशीष बच्चो


काम देश के आओ।


 


साभार: चुलबुला बचपन,



Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)