मनीप्लांट

मम्मी मनी प्लांट उगवा दो


एक छोटा-सा पेड़ सज़ा दो।


नरम-नरम मिट्टी को कर लो-


फिर पैसों का पेड़ ला दो।।


उसमें पैसे रोज़ लगेंगे


सबकी इच्छा पूर्ण करेंगे।


टाॅफी चाॅकलेट सब मिलंेगे


मैं और पिंकी नहीं लड़ेंगे।


गमला एक छोटा मँगवा दो।


मम्मी मनी प्लांट लगवा दो।


पापा आॅफिस से आयेंगे,


हमको बाज़ार ले जायेंगे।


चाट-पकौड़ी-आइसक्रीम हम


भर कर पेट, खूब खायेंगे।


माली अंकल को बुलवा दो,


मम्मी मनी प्लांट लगवा दो।।



Popular posts from this blog

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य