फागुन

आया फागुन बस आया फागुन


भूली बातों का दौर लेकर भीगे तन औ मन


रंगों ने भरमाया,आया बस फागुन आया


गोरे-गोरे गाल रह गये दंग,


जब झोंके में पड़ गये प्रेमरंग


थिरकने लगे पाँव भी जब ढप ने छेड़े मन तरंग


न अंखियों ने रचे रास रंग कैसा ये मौसम आया


आया बस फागुन आया


बाहर भी रंग और अंदर भी रंग


कैसे कहूँ सखी मन की उमंग


फाग में मिला देखो पिया जी का संग


रंग भरे शोलों ने जिया धड़काया


उत्सव ये दिलों का क्यों न बार बार आया


आया फागुन, बस फागुन आया


बस फागुन आया



Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021