मेरा कहा

 


रात से पूछना
न बोले वह
तो 
लैम्प से माँग लेना गवाही
लिखा है बहुत कुछ
लेकिन 
लिखा नहीं है अब तक जो
वह सब तेरे लिए है


हो सके तो पढ़ लेना
मेरा कहा
अनकहा।



उमा त्रिलोक


मो. 9811156310


 


Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

बाल स्वरूप राही