कविता

प्यार में



प्यार की स्याही से
लिखे चर्चे
समय की
‘टच एंड गो’ ने छुआ
और भुला दिया


पन्नों पर
फड़फड़ता दर्द
आलपिन सा चुभा
तो अतीत को
फाइल में
जाने क्यों लगा दिया


बदलते परिवेश से
जुड़ी तुम्हारी यादें
अर्जी सा चेहरा
क्षण भर को देखा
और पेपरवेट की तरह
हटा दिया....



शिव डोयले
विदिशा (म.प्र.), मो. 9685444352


Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

बाल स्वरूप राही