कोरोना ! तू रुक तो जरा



डॉ सीमा शाहजी

मोबाइल नम्बर 7987678511


 

 

कोरोना ! तू रुक तो जरा

 

रात ओ दिन

क्षण प्रतिक्षण

समुद्र नदियां धरती 

ग्रहों को नापता 

कोरोना बनाम /डर की इंतहा

तिलस्म से मानवता को रौंदता

शाप बनकर घूम रहा है 

देश देश की टोह लेकर

संक्रमण /मौत के जखीरे देकर

भारत आया है 

 

उसके आगमन से 

पूरा भामण्डल 

थरथराया है ......

खुश है न तू

तूने सभी को 

झुकाया है 

धैर्य की परीक्षा है तो सही हमारी 

पर.... 

कोरोना ! तू  रुक तो जरा 

अपने आस पास देख 

तेरे विनाशक पंखों को

कुतरने का 

शक्तिपुंज है , 

हर भारतवंशी के पास ...।

तू गिन अब उल्टी सांस

इतिहास गवाह है 

कि

जब जब किसी  संकट ने

भारत मे सर उठाया है

तुलसी गंगाजल के 

पवित्र आचमन 

मन की आस्था 

मानवता दया करुणा 

विश्वास 

ने उसे दूर भगाया है 

ओ ! हन्ता 

भाग भाग 

भारत भूमि से 

नही तो फिर 

सुन ले जरा 

तूने अपनी ही मौत को 

स्वयम बुलाया है .....।

 

 

Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021