अभिनव इमरोज आवरण पृष्ठ 1


जब कोयल लगे कुहुकने


और अंबुआ पे पड़े बौर


तितलियों संग मचल-मचल


भंवरा भी कहे 


लो आ गई बहार।


Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य