अभिनव इमरोज आवरण पृष्ठ 1


जब कोयल लगे कुहुकने


और अंबुआ पे पड़े बौर


तितलियों संग मचल-मचल


भंवरा भी कहे 


लो आ गई बहार।