लेखिका नासिरा शर्मा ने लॉकडाउन में लिखा प्रकृति का गीत

लॉकडाउन में बहुत कुछ बदला तो प्रकृति भी उससे अछूती नहीं रही। खासकर महानगरों में रहने वालों की नई पीढ़ी ने तो प्रकृति के उन रंगों को भी देखा जो अब तक उनकी नजर में अनदेखे थे। प्रकृति के विविध रूप-रंग को लेखिका नासिरा शर्मा ने भी इस लॉकडाउन में देखा और उसे अपनी कलम से कागज पर उतार दिया। पेश है उन्हीं की आवाज में प्रकृति का अचंभित करने वाला रूहानी अंदाज...अगर आपने भी प्रकृति को कहीं कुछ अलग महसूस किया हो तो हमें अपनी टिप्पणियों के जरिए जरूर बताएं...



Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021