सुकून


राकेश भारतीय, द्वारका,  नई दिल्‍ली, मो. 09968334756


 


शनिवार की रात है


पूरे सप्‍ताह की थकान


बस इसी ख़याल से


उतरती हुई लग रही है


कि कल सुबह देर तक सोयेंगे


नाश्‍ता स्‍वाद ले-लेकर खायेंगे


बस-मेट्रो पकड़ने की जल्‍दी नहीं होगी


दफ़्तर पहुंचने की कोई जल्‍दी नहीं होगी


और ये सारा ख़याली पुलाव पकाते हुए


ये ख़याल तक नहीं आता है कि


ये सुकून बस अगली रात तक है


 


आधुनिक मान


मोम की झीनी पर्त से चमकाये गये सेब


हरे रंग के घोल से हरियाई गई भिंडी


पाउडर से गरमा कर पकाये गये आम


लगने-फलने-पकने की स्‍वाभाविक प्रक्रिया से


जबरन हटाये गये ऐसे फल-सब्‍ज़ी तमाम


खा-खाकर मैं रोज़ ही डकर रहा हूं


इस बात से बिलकुल ही बेपरवाह कि ऐसे


मैं रोज़ ही थोड़ा-थोड़ा मर रहा हूं


 


अपने वाहन का प्रदूषण दूसरी नाक में झोंककर


अपने कूड़े-कचरे को बाहरी सड़क पर फेंककर


आठ बाई दस के दड़बे को ‘अपना’ समझकर


बाकी दुनिया के ‘पराये’ को परे रखकर


सीमित सुख भोग-भोग मैं हंस-किलक रहा हूं


आसन्‍न असीमित दुख से आंखें मूंदे हुए


अपने ‘भाग्‍य’ पर लगातार इतरा रहा हूं


और दुर्भाग्‍य में धड़ तक धंसता जा रहा हूं


 


मैं ‘पढ़ा-लिखा’, ‘आधुनिक’, ‘तरक़्कीपसंद’ मानव


अपनी ‘तरक़्की’ से बना हुआ मत्‍त गयंद मानव


बावजूद तरक़्की के, मरने से नहीं बच पा रहा हूं


पर मरने से बचने की बेवकूफ़ाना हरकतों से


जीने की बची-खुची सम्‍भावना कम करता जा रहा हूं।