संपादकीय


देवेन्द्र कुमार बहल, नई दिल्ली, मो. 9910497972


आनलाईन पत्रिका हमारे लिए एक नया प्रयोग है। त्रुटियाँ स्वभाविक है। आशा है नवंबर-दिसम्बर तक रूटीन सैट हो ही जाएगी। अभी हम वेबसाईट में कोई परिवर्तन नहीं कर सकते क्योंकि यह वेबसाईट हमें ‘गूगल’ ने यह वेबसाईट हमें तीन साल के लिए बिना किसी फीस के दी हुई है। पूरे अधिकार प्राप्त होने पर हम इसे रि-डिजाईन कर सकते हैं। आप कृपया नोट कर लें कि आप को केवल हमारी साईट पर ही विजिट करना है।


वर्ष 9, जुलाई 2020, अंक 7 प्रस्तुत है:- https://abhinavimroz.page/


धन्यवाद एवं शुभकानाएँ


 


Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)