सुख-दुख की पताकाएँ


जो सदा एक जगह नहीं रहते, उनका नाम है सुख-दुख। आप


सुख के पीछे दौड़ते हैं तो दुख आपके पीछे। दौड़ में तो दौड़ना ही


पड़ता है क्योंकि वहाँ खड़े रहने की जगह नहीं है। सुख-दुख की


रेखाओं का बनते और मिटते रहना आसान है। उस आसान को


हम मुश्किल मानकर जीना तो जानते हैं, पर उन रेखाओं को


आसानी से समेटना नहीं जानते।


 


दुख को सहन कर पाने से सुख मिलता है, और सुख में डूबे रहने


पर दुख आक्रमण करता है। जो इस तथ्य को समझ लेते हैं उनके


पास उदासी नहीं, आनंद की जलवायु होती है। यह जलवायु


किसी पहाड़ पर नहीं होती, उसको तो मैदान में उतरना होता है...


Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021