शिशु को चाँद दिखाती माता!

शिशु को चाँद दिखाती माता!
खिली चाँदनी कुन्द-कुसुम-सी, मधुर पवन लहराता आता!
शिशु को चाँद दिखाती माता!


आँगन में ले गोद ललन को-
कहती-‘चन्दा-मामा देखो!’
किलक-किलक बह नन्हीं-नन्हीं बाँह उठाता-हाथ न आता!
शिशु को चाँद दिखाती माता!


असफल हो, रो उठता निर्बल,
भाव जताता-’दे माँ, दे चल!’
अश्रु बहाता, माँ थुपकाती, लोरी गाती, वह सो जाता!
शिशु को चाँद दिखाती माता!


ऐसे ही, मानव जीवन भर-
रोता सुख के लिए निरन्तर,
धरती-माता-बहला देती, वह रो-धो कर चुप हो जाता!
शिशु को चाँद दिखाती माता!


साभार: रामेश्वरलाल खण्डेवाल ‘तरुण’ की पुस्तक हिमांचला के सौजन्य से


Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य