अभिनव इमरोज़ कवर पेज - 1


..... खेल-खेल में ही सिखलाते,


परिस्थितियों से, जूझने का मन्त्र बताते,


मेरी थकी गीली आँखों में


नये स्वप्न जगाते,


पत्ते मेरे घर आये। 


-उमा त्रिलोक


Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)