अस्तित्व



रमेश दवे, भोपाल, मो. 9406523071


 


विराट क्या?


कौन?


सूक्ष्म कहां?


कितना?


जीवन-


कितना जीव?


कितना वन?


चिंतन


करें-


जैसा चाहें


शून्य हो जाता


सब कुछ


अस्तित्व के


विसर्जन पर!



Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)