अस्तित्व



रमेश दवे, भोपाल, मो. 9406523071


 


विराट क्या?


कौन?


सूक्ष्म कहां?


कितना?


जीवन-


कितना जीव?


कितना वन?


चिंतन


करें-


जैसा चाहें


शून्य हो जाता


सब कुछ


अस्तित्व के


विसर्जन पर!



Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021