पागल के गीत


बस, ऊब गया जीते जीते।


                               अनचाहे से मिहमान बने,
                               बैठे निर्लज्ज प्राण उर में;
                               जब साथ उमंगें छोड़ गई,
                               मुर्झाई आशा ले कर में;


                                                      हूँ सुखी दुक्ख पीते पीते।


                               आशा की धूमिल ज्योति सदृश,
                               बस जीवन गाथा पूर्ण हुई;
                               स्वप्नों की भी सीमा टूटी,
                               कल्पनातीत कलि म्लान टूटी,                               


                                                     युग गीत गये सुख दिन बीते।


                               सुधि की चिनगारी से फटता,
                               बोझिल मन ज्वालामुखी बना;
                               जग ने क्यों पागल ठहराया;
                               पाया दुर्भाग्य कलंक सना;


                                                     जब दिन आते रीते रीते।


                               सब अपने भी बेगाने से,
                               अरमान अंध दीवाने थे;
                               यों झरना ही थी आशा कलि,
                               अलि क्यों मँडराने आये थे।


                                                     हो गये अपरिचित मन चीते।


साभार: पागल के गीत


प्रस्तुति : अवध बिहारी पाठक
कुटी, सेंवढ़ा (मध्य प्रदेश)
मो. 9826546665



07-06-1950,