उल्टा-पुल्टा



रमेश दवे, भोपाल, मो. 9406523071


 


रोना मत


नारों का ज़माना है,


मानो मत कोई मत


तम का जमाना है,


करो मत कोई नाटक


काटना पड़ता है


खुद को ही,


पीटो मत पुरानी लकीरें


टोपी बदल गई है


सिर में,


चलो लोच के साथ


डरो पर चलते चलते


मरो इस तरह


कि


रोम रोम जी उठे !



Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

बाल स्वरूप राही