क्रिसमिस (बाल कविता )








डॉ दलजीत कौर, चण्डीगढ़, मो. 9463743144


क्रिसमिस का आया त्योहार

सेंटा लाया कई उपहार

सबने मिलकर पेड़ सजाए

रोशनी सबके मन को भाए

दोस्त मेरे घर पर आए

माँ ने केक-बिस्किट बनाए

बड़े मजे से हमने खाए

पापा बनकर सेंटा आए

कई सुंदर उपहार लाए

क्रिसमिस का कोरल हम गाएँ

सबके लिए करें दुआएँ

क्रिसमिस का त्योहार आए

सबके लिए ख़ुशियाँ लाए

ख़ुशी से इसे हम मनाएँ



Popular posts from this blog

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य