बदलता चैनल

अजित कुमार राय, कन्नौज, Mob. 9839611435


अपनी प्रेयसी को पत्र लिख रहा था

कि श्रीमती जी टेबिल पर चाय रख गईं।

बीच में उनकी छाया पड़ते ही

कविता को ‘ग्रहण’ लग गया।

फिर कविता शुरु हुई-

प्रिये! चाय ‘रस’ हो गई है

और बूँद-बूँद पी रहा हूँ मैं तुम्हें।

इतने में सौ डिग्री सेल्सियस पर

खौलती हुई श्रीमती जी आईं।

मैंने अपना चैनल बदला-

आओ, तुम्हारे सिर पर चाय रख हूँ,

ताकि गर्म हो जाय।

Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021