स्पंदित प्रतिबिम्ब

संघर्ष का चिराग़

जीवन के अंधेरे पलों में

रोशनी के लिए

संघर्ष 

जब बढ़ जाता है

तब

सन्नाटों को बुनते हुए

ख़ुद चिराग़ बन

जल उठता हूँ मैं !

हाँ

यही परिभाषा

बन गई है ज़िन्दगी की !

गंगा की धारा में

मेरी ख़ुशियों, उमंगों

और लक्ष्यों का

प्रतिबिम्ब उभरता है

अक्सर

चाँदनी के बीच 

और फिर जीवन

गीत बन जाता है

लहरों के संग चलकर

घुप अंधेरे के

साए में भी !

अमरनाथ ‘अमर’ दिल्ली

Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा