तुम्हारा न होना मेरे साथ है

विनोद शर्मा


तुम्हारा न होना मेरे साथ है

मैं चल रहा हूँ अंतहीन सड़क पर

अकेला


तुम्हारी चुप्पी मुझे सुनाई पड़ रही है

कभी न पढ़ी-सुनी गई

अपनी कविता की तरह


तुम अदृश्य होकर भी मेरे सामने हो

किसी पूर्वाभास की तरह


दूरी तुम्हें मेरे पास खींच लाई है

किसी खोई हुई किताब के

याद किए हुए सबक की मानिन्द।

Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)