भक्तों की पुकार


    गायत्री  गौड़, नई दिल्ली,  
    मो. 9810179659


अब तो आ जाओ भगवान, जगत में मच गया हाहाकार।

गीता में तूने वचन दिया था मैं हर युग में आऊंगा।

जब जब धर्म की हानि होगी आकर धर्म बचाऊंगा।

सूक्ष्म कीट बन आ गया, दैत्य कोई खूंखार।

निर्दोष और मासूमों पर यह कर रहा अत्याचार।

माता-पिता और बहन -भाई सब हो गए हैं लाचार।

अब तो रक्षक बन आ जाओ , हे जगत के पालनहार !

अब तो आ जाओ भगवान जगत में मच गया हाहाकार।

सतयुग में तुम विष्णु बने और त्रेता में श्रीराम।

द्वापर में श्रीकृष्ण बने, क्यों कलियुग में अंतर्ध्यान?

हर युग में राक्षस संहारे ,मिटा दिए संताप।

कलियुग के कोरोना पर अब करो सुदर्शन वार।

अब तो आ जाओ भगवान जगत में मच गया हाहाकार।


Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

बाल स्वरूप राही