अघोरी

अघोरी नृत्य कर रहे हैं

उत्सव है उनका 

राख का पर्वत खड़ा हो गया है।


अब कमी नहीं पड़ेगी

नंगे बदन पर पोतने के लिए

मृत्यु का तांडव करने को।


आग बुझती नहीं

अगला तैयार है

भस्म हो जाने को


मत आना लखनऊ

ये शहर 

मुस्कुराना भूल चुका है।









रवि कपूर

लखनऊ, मो. 9935966219

Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

एक बनिया-पंजाबी लड़की की जैन स्कॉलर बनने की यात्रा

अभिनव इमरोज़ सितंबर अंक 2021