कवि तुम अमर हो

कवि तुम अमर हो

लिखते रहे पुरषार्थ की कलम से

किताबों के हर सफे पर

जिंदगी के हर फलसफे पर

तुम अमर हो-एक सिपाही बन कर-

 

सपनो के गांव में

पेड़ों की घनी छांव में

पक्षियों के कलरव में

सखियों के अपनत्व में

तुम अमर हो-एक कहानी बन कर-

 

तुम ही बंशी की तान में

राधा के प्राण में

लहरों की मौज में

सागर की गोद में

तुम अमर हो-श्वेत, धवल मोती बनकर-

 

भवरों की गूंज में

वन में उपवन में

फूलों के रंग में

तितलियों के संग में

तुम अमर हो-महक बनकर-

 

तुम हर जगह,

धरा के कण कण में प्रकाश लिए पहुंचे

शब्दों के पिटारे संग हर शय में

तुम अमर हो-किरनों के सरताज रवि बन कर-

 

अमर थे,

अमर हो,

जब तक रहेंगे चांद, सितारे

अमर रहोगे इतिहास में

कवि तुम-स्वर्ण अक्षर बन कर-

 

(जहां न पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवि) 

       

 


 अरूणा शर्मा, दिल्ली, मो. 9212452654

Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य