हँसी की डोर

 

वक़्त आ गया है कि वह आए

मुझे बग़लगीर करती हुई

धीमे से कहे...

बहुत हो गया जीना-मरना, लिखना-पढ़ना

अब छोड़ो भी यह साज़ पुराना

 

इससे पहले कि मैं साज को झाड़ता-पोंछता

वह ठीक मेरे सामने थी

हँसती हुई...

वक़्त की नब्ज पर हाथ रखे

मुझे बुलाती... चलो

 

और मैं उस की हँसी की डोर में लिपटा

हँसते-हँसते

उसके साथ हो लिया

बेहिचक!


 

साभार: किरदार निभारते हुए’, नरेन्द्र मोहन का नवीनतम प्रकाशन

Popular posts from this blog

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

अभिनव इमरोज़ दिसंबर 2021 अंक

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य