जंग के बीच प्रेम और शांति की तलाश का आख्यान है ‘अजनबी जज़ीरा’

 समीक्षा





जर्नादन


आग में खिलता गुलाब?

अपने अंतिम दिनों में सद्दाम हुसैन जिन सैनिकों की निगरानी में रहते रहे उन सैनिकों को ‘सुपर ट्वेल्व’ कहा जाता था। इन्हीं सैनिकों में एक सैनिक था- विल वार्डेनवर्पर। विल ने सद्दाम के साथ अपने अनुभव को एक किताब की शक्ल दी। किताब का नाम है- ‘द प्रिजनर इन हिज पैलेस, हिज अमेरिकन गार्ड्स एंड व्हाट हिस्ट्री लेफ्ट अनसेड’। सद्दाम हुसैन के अंतिम दिनों के हालात को जानने के लिए एक ज़रूरी किताब है। किताब में बताया गया है कि इन्हीं सैनिकों के हाथों सद्दाम फाँसी देने वालों को सुपुर्द किए गए। सद्दाम के अंतिम दिनों के साथी इन फौजियों को उनसे (सद्दाम से) बहुत लगाव हो गया था। मुहब्बत बेख़ौफ़ दरिया है, जिसे रोकना कतई आसान नहीं। सुपर ट्वेल्व को सद्दाम से मिलने-जुलने की मनाही थी। मगर सैनिक उनके हमराज़ होते जा रहे थे। इनके लिए सद्दाम एक यारबास आदमी थे। इस किताब में कुछ दिलचस्प और बेहद तकलीफ देने वाले वाकये दर्ज हैं, मसलन - ‘सद्दाम को सरप्राइज देने की योजना बनाई गई। पुराने कबाड़ख़ाने से एक छोटी मेज और चमड़े के कँवर की कुर्सी निकाली गई और मेज के ऊपर ईराक का एक छोटा झंडा लगाया गया।’ मगर यह एक प्रहसन था- दुश्मन देश के फौजियों द्वारा सद्दाम को खुश रखने की अंतिम कोशिश। सद्दाम उस वक्त अपने से अधिक क्रूर शक्ति के हवाले थे, जो अपनी शान के खिलाफ उठी हर गुस्ताख़ निगाह को मुर्दा बनाने का खिताब हासिल कर चुकी थी। लिहाजा 30 दिसंबर 2006 को उनको भोर के तीन बजे जगाया गया और बताया गया कि थोड़ी ही देर में उन्हें फाँसी दी जाएगी। फाँसी का ऐलान सुनते ही वह खामोश हो गए। उनके भीतर कुछ टूट सा गया। उन्होंने कोई शिक़ायत नहीं की। वे नहाए और खुद को फाँसी के लिए तैयार किया।

सद्दाम की फाँसी के बाद सुपर ट्वेल्व के कई सैनिकों ने फौज से खुद को अलग कर लिया। वे एक सल्तनत के ढहने, एक तानाशाह के अंत और लाखों लोगों की तबाही के गवाह थे। वे खुबसूरत रिहायशों की बर्बादी का मंज़र देख चुके थे। उन्हें लड़ाई और खून से नफ़रत हो गई थी। वे बरबाद शहर और बुझी निगाहों से दूर होना चाहते थे। वे मुहब्बत में पनाह चाहते थे। इस किताब में दर्शाया गया है कि खूनखराबे से तंग आकर सुपर ट्वेल्व के फौजी फौज को छोड़कर अमन - चैन की जिंदगी तलाशने लगे।

इज़राइल और फलस्तीन के बीच फँसे मासूम इंसानों की तस्वीरें हमारे ज़ेहन में ताज़ा हैं  और हम वहाँ की तबाह ज़िंदगी और वहाँ के हुक़्मरानों के बयानों को सुनकर थक-थका कर, माथा पकड़ कर बैठ चुके हैं। अफगानिस्तान में ज़िंदगी की मियाद नहीं है। अफनानिस्तान से ‘अमन की फौज’ रूखसत होने की तैयारी कर रही है। इज़राइल और फलस्तीन के निज़ाम हालाँकि बदल गए हैं। मगर तक़दीर के बदलने का इंतज़ार है। आश्चर्यजनक रूप से इस मुद्दे को भारतीय मीडिया ने भी ख़ूब जगह और समय दिया। ऐसी तमाम लड़ाइयां इतनी आम हो चुकी हैं कि हम सभी का जे़हन इस बात पर यकीन करने के लिए तैयार हो गया है कि लड़ाइयाँ मासूमों की ज़िंदगी के एवज़ पर लड़ी और जीती जाती हैं और यह सब चलता रहता है। लिहाज़ा इस सदी का इंसान अपने से पहले सदी वाले इंसान के बनिस्पत तबाही और मौत से परेशान नहीं हो पाता। उसकी संवेदनाएं थोड़ी जम सी गई हैं। हम तैयार हैं और मानते हैं कि लड़ाइयों में खाली बड़ी-बड़ी इमारतें जमींदोज़ नहीं होतीं, फ़क़त इंसान नहीं मरा करते, बल्कि इंसानियत तक तबाह हो जाती है, मर जाती है और यह सब होता रहता है। ज़ख़्म को सदियाँ सालों तक सिसकते हुए अपनी पीठ पर ढोती रहती हैं और तारीख के नक़्कारख़ाने में सदियों की कराह अभिशप्त प्रेतात्मा के मानिंद सैकड़ों साल तक कराहती रहती है।

दुनिया के तमाम हिस्सों में लड़ाइयाँ होती रही हैं और लोग तबाह होते रहे हैं- अफगानिस्तान, ईराक़, फलस्तीन-इज़राइल और सीरिया, इनके साथ-साथ तमाम देशों की सरहदें। कहीं-कहीं कुछ लोग अपनी सरहदों को महफूज़ रखने के लिए दीवार तक खड़ी कर लिए और कुछ लोग कर रहे हैं (यह वक्त दीवारों का है) और जहाँ दीवारें नहीं हैं, वहाँ दीवारों वाली सरहदों से अधिक ख़ौफ़नाक मंज़र पेश होता (हो रहा) है। पूरी दुनिया में लाखों लोग लड़ रहे हैं और लाखों बेगुनाह मर रह रहे हैं। दुनिया का हर कोना सुरक्षा को लेकर चिंतित और हलकान है। हर जगह ज़िंदगियां तबाह हो रही हैं और क़ब्रिस्तान व मरघट आबाद हो रहे हैं। तमाम औरत-मर्द और बच्चे क़ब्रिस्तानों में पनाह पा रहे हैं। हर तरफ नफ़रत का मंज़र है। मगर क्या इतने ख़ौफ़ज़दा माहौल में भी बिना मुहब्बत किए जिया या रहा जा सकता है? या यूं कहें कि क्या हर लड़ने वाला लड़ाका संगदिल (होता है) हो गया है, उसे गुलाबों का खिलना, कलियों का चटकना और बच्चों की किलकारी ज़रा भी पसंद नहीं है?

ऐसा नहीं है। मुहब्बत कभी नहीं मरती। लोग कहते हैं कि पत्थरों के भी दिल हुआ करते हैं। मज़दूरों का मानना है कि मशीनों के भी जज़्बात हुआ करते हैं। नदियाँ किनारों की मुहब्बत में कैद होकर हजारों साल एक ही तरह से बहते हुए अपनी उम्र ज़ाया कर देती हैं। जो जहाँ है दिल लगाए बैठे है। इसीलिए मुहब्बत का कारोबार दुनिया का सबसे पाक और हमेशा चलने वाला कारोबार है। कई लड़ाके दुश्मन की लड़कियों से दिल हार जाते हैं। उनके आका जीत की मुनादी कर रहे होते हैं और उनके लड़ाके दिल के हाथों हार रहे होते हैं- ‘जंग के दौरान चंद सिपाही अपने ही साथी महिलाओं से संबंध बनाकर उन्हें गर्भवती बना चुके थे। या फिर बीच जंग में आगे लड़ने से मना कर चुके थे। उन पर ट्रायल चल रहा था।’ हारने और जीतने का यह खेल आग में जल रहे हर मुल्क में चल रहा है। मुहब्बत की आग से खेलने की यह अदा सदा से रही है। आग के दरिया में मुहब्बत का गुलाब खिलता है। क्या इस तरह के मंज़र पर अफ़साने शाया हुए हैं?

मेरे ख्याल हुए हैं और कई हुए हैं- वार एंड पीस, फॉर ह्वोम द बेल्स टॉल्स (हेमेंग्वे), गॉन विथ विंड और द नेकेड एंड द डेड (नॉर्मन मेलर)। मगर हम जिस नावेल की बात कर रहे हैं उसकी ज़मीन ईराक़ है और एक फौजी जंग का अंत मुहब्बत में तलाशता नज़र आता है (ऊपर इसी नावेल की एक पंक्ति को बतौर संदर्भ लिया गया था)। वह भी दुश्मन मुल्क की औरत से मुहब्बत करने लगा है। इस परचे में इस नावेल पर कुछ ज़रूरी बात करने का इरादा है।

‘अजनबी जजीरा’ एक नज़ीर है- लड़ाई और लश्कर के ख़ौफ़ में रह रहे लोगों की कहानी है । यह एक माँ और एक मुसीबतज़दा औरत की कहानी है। इस नावेल में मुहब्बत के रंग को नुमाया किया गया है- दहकते शोलों पर मुहब्बत का रंग, ऐतबार जगाने वाला रंग है। नासिरा शर्मा ने बहुत मुहब्बत और यकीन से पाक-ए-मुहब्बत को अफसाने में पिरोया है। ‘अजनबी जजीरा’ युद्ध के दरिया में खिले हुए कमल की तरह है। जैसे साहिल के दायरे की आदत वाला दरिया धीरे-धीरे साहिल को तोड़कर नया रास्ता बनाता है, हालांकि ऐसा करने में कई बरस खर्च हो जाते हैं, उसी तरह पांच बच्चों की माँ समीरा, जिसका शौहर युद्ध के हालात का शिकार होकर दुनिया से विदा हो चुका है, धीरे - धीरे मार्क (दुश्मन खेमे का कमांडर) से मुहब्बत कर बैठती है और उसमें जिंदगी की पनाह पाती है। मगर इतना सब कुछ होता कैसे है?  अपने दीन, तालीम और नस्ल पर फ़ख्र करने वाली औरत और दुश्मनों के हर गली-कूचे तबाह करने वाला तेज़ तर्रार मार्क जैसे दो एकदम अलग लोग मुहब्बत की ओर कैसे बढ़ने लगते हैं?


नासिरा शर्मा के इस अफसाने को मुहब्बत की नज़्म कहा जा सकता है। एक ऐसी नज़्म जिसकी शुरूआत मातम और मजबूरी से होती है- ‘शौहर जितना भी प्यारा क्यों न हो, लाश तो दफनानी ही पड़ेगी...’ उपन्यास की शुरूआत ही मौत और मातम की मुनादी से होती है, मगर मुहब्बत कुछ ऐसी कि मौत के आगोश में पड़ा शौहर अब भी जिंदा और इश्क के काबिल लगता है- ‘इस हालात में भी तुम दुनिया के सबसे हसीन मर्द लग रहे हो।’ नासिरा जी नावेल के शुरू में ही दिखा देती हैं कि समीरा का पोर-पोर उसके शौहर की मुहब्बत में डूबा हुआ है।

वैसे यह अफसाना नहीं हक़ीक़त है। यह हक़ीक़त बयानी है ईराक़ के एक नामवर शहर, जिसे अपने हुस्न और तालीम पर कभी फ़ख्र था। मगर अब उस मुल्क का बादशाह शिकस्त खा चुका है और कहीं छुप गया है (उसके अंजाम को लेख के शुरूआत में ही आयत कर दिया गया है)। फतेह हासिल करने वाले मुल्क की फौज बादशाह (उनके लिए तानाशाह) की तलाश में लगी हुई है और शहर के हर आदमी पर निगाह रख रही है, जिससे हर जिस्म में भय, थकान और गै़र-यक़ीनी सूरतेहाल है। ‘इराक़ी बाथ पार्टी’ के मेंबर या सद्दाम हुसैन से रिश्ता रखने वाले हर शख़्स की गिरफ़्तारी, हत्या और जेल हो रही है। तमाम ग़ैर-मुनासिब हालात ने मुल्क के सभी गांवों और शहरों को बेनूर और बे-आबरू कर दिया है। समीरा का शहर भी अपवाद नहीं।

समीरा के शहर की बदहाली पर मुगलिया सल्तनत के तबाह होते बेनूर होती दिल्ली की याद ताजा हो जाती है- “इस शहर में कुछ ऐसा जादू है जिससे कोई बेताल्लुक नहीं रह सकता। इसके अतीत की शानो-शौक़त के खंडहर जो हर तरफ बिखरे पड़े हैं, उनको देखकर दिमाग़ सोच में डूब जाता है। ख़ाक में मिलते हुए महल, बेशुमार इमारतें और मक़बरे जो भविष्य के लोगों को अपने वासियों को कभी न खत्म होने वाली शोहरत की याद दिलाते हैं, और फिर भी लोग वहाँ से बगै़र देखे, बगै़र जाने गुज़र जाते हैं। लेकिन इन सबको नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है।”’1

दिल्ली की तरह ही खंडहर शहर और बेसहारा होती समीरा दोहरी मार का शिकार है। समीरा का शौहर बाथ पार्टी का मेंबर था, इसलिए मरने के बाद भी जनाजे की रस्म पूरी होने में बड़ी मुश्किल पेश आ रही है, मगर शहर अभी मरा नहीं है, कुछ लोग हैं, जिनमें इंसानियत जिं़दा है और वे कफ़न-दफ़न के लिए आगे बढ़ते हैं- ‘हम आखिरी रसूमात के लिए आए हैं। सामने खड़े स्याह लिबास वाले ने कहा और दूसरे साथिओं ने हामी भरी।... लाश को कफ़नाने के बाद वे सब बाहर निकले...’

कोई मुल्क जब बरबाद होता है, तो सब कुछ एक साथ बरबाद नहीं होता। बरबादी की ओर बढ़ते मुल्क भी धीरे-धीरे बर्बाद होते हैं। बर्बाद होते मुल्क बर्बाद होते-होते भी तमाम मौक़ापरस्त लोगों को आबाद कर जाते हैं और कुछ लोगों के पौ-बारह होने लगते हैं। जैसे जब कोई मरता है तो उसके साथ बहुत कुछ मर जाता है, मगर कीड़ों की मौज हो जाती है। वे इत्मीनान से लाश की दावत में शरीक़ होते हैं। ‘निष्ठावान ईराक़ियों के लिए सब कुछ खत्म हो चुका था, मगर अन्य विचार रखने वालों के लिए सही शुरुआत अब ईराक़ में होने वाली थी।’ हालाँकि लड़ाई और सियासत के दौरान जिस तरह सड़कें रौंदी और लहूलुहान की जाती हैं उसी तरह औरत भी तार-तार होती है- ‘जिस समाज में जवान माँ पर नज़रें गड़ी हों वहाँ पर कमसिन लड़कियों की क्या सुरक्षा है?’ उपन्यास में एक जगह समीरा अपने हालात पर सोचती है- ‘बगदाद का आसमान उक़ाबों से भरा है जो एक झपट्टे से ताज़ा कबूतरों अपनी हवस का निवाला बनाने को बेचैन हैं, मेरे सामने अब सिर्फ दो रास्ते हैं, एक अस्मत-फरोशी का और दूसरा किसी ख़ुशहाल बूढ़े से शादी करने का, ताकि बंद दरवाज़ा खुल जाए वरना लड़कियां बागी होकर ऐसा कदम उठाएँगी जिसमें सिर्फ पछतावा ही हाथ आएगा।’

दुनिया के तमाम शहरों के शहरी अपने शहर के हुस्न से इश्क़ करते हैं। उसके ज़र्रे पर मिटने को तैयार रहते हैं। इसी प्रेम के कारण ताकतवर दुश्मनों से लड़ जाते हैं। समीरा को अपनी गलियों और पड़ोसियों से मुहब्बत है। वह छायादार दरख़्त की तरह वतनपरस्त औरत है। उसका शहर जिस हालत में पहुँच गया है, उस पर उसका दिल रोता है। जिस घर में कभी चाँद तारों की बातें होती थीं, वह घर दहशत पैदा करने लगा है- ‘घर में एक अजीब-सी बू बस गई थी। शुरू में उस बू ने पाँचों का जीना दूभर कर दिया था। मतली हरदम महसूस होती मगर धीरे-धीरे बिना ताज़ा हवा के पाँचों इस गंध की आदी हो चुकी थीं जैसे नेदा बम और गोलियों की, जिसको सुने बिना उसे नींद नहीं आती थी।’ नेदा समीरा की सबसे छोटी बेटी है। समीरा अपनी बच्चियों और मध्यवर्गीय समाज की विडंबना से चिंतित है। वह जानती है कि मध्यवर्ग झूठी शान के लिए अपना सब कुछ दाँव पर लगा देता है। वह अक्सर सोचते-सोचते बेहाल हो जाती है- ‘वह मध्यवर्ग की बेबस लड़कियाँ हैं, जो हालात की बुरी तरह शिकार हो चुकी हैं, जिनका न ख़ानदान में कोई बचा है, न बैंक में कोई बैलेंस। जो है सिफ उनका कुंवारापन।’

देखा जाए तो अजबनी जज़ीरा किसी एक मुल्क की दास्तान नहीं है- अफगानिस्तान, सीरिया, नाइजीरिया और हालिया इस्राइल-फलस्तीन जैसे मुल्क जंग और ज़िंदगी के बीच फँसे हुए हैं। आए दिन वहाँ से खराब खबरें आती रहती हैं, जिन पर पहले ही बातें रखी जा चुकी हैं।

अजनबी जज़ीरा को क्या माना जाए? मुहब्बत का अफ़साना या उपनिवेश और पूंजी के पंजे में फँसे एक मुल्क की छटपटाहट की दास्तान, या फिर दोनों?

ज़ाहिर तौर पर अजबनी जज़ीरा जिस्मानी मुहब्बत की दास्तानगोई भर नहीं है। यह एक औरत की निजी परेशानियों का पुलिंदा भी नहीं है, यह उन तमाम औरतों और उनकी असहाय बेटियों की ओर से दायर किए गए बयान या हलफनामा की तरह है, जिनके मुल्क की क़िस्मत फौज के साये में जलने और बिखरने को रह गई हैं। इसीलिए यह नावेल सियासत को नहीं बल्कि सियासत के बाद उजाड़ होती दुनिया को उजागर करता है। नावेल बहुत खामोशी से यह भी जता जाता है कि फौजों का हासिल कुछ भी नहीं। दरअसल फौजें और उनका काम दो-धारी तलवार की तरह है, जो दोनों ओर के इंसान को लहूलुहान कर रही हैं। इतना ही नहीं, विदेशी फौज की निगहबानी में सांस ले रहे मुल्कों के शहरी सारी नैतिकता छोड़कर और बे-आबरू होकर भी जिंदगी का तार पकड़े रहना चाहते हैं-“ हमारी निष्ठा की पताका, हमारे ही लोगों की गद्दारी से तार-तार हो गई। इस सबके बावजूद लोग जी रहे हैं, जीने को मजबूर हैं। हराम और हलाल की बंदिशों को तोड़कर जीना चाहते हैं।” इस नावेल में कई जगह भूख और खाने-पीने की चीजों के रिश्तों की बहुत बारीक़ी से पड़ताल की गई है- “अरसे बाद घर में खाना पका था वह भी एक साथ तीन चीजें खाने के लिए माँ ने पकाई थीं- सालन, चावल और स्वीट डिश। मोहल्ले में नए खुले तंदूर की गर्म-गर्म रोटी भी थी जिसकी महक़ सारे घर में फैल चुकी थी।”

‘अजनबी जज़ीरा’ की भूख दुनिया के दूसरे हिस्सों के भूख से एकाकार हो जाती है। समीरा और उसकी बेटियों की भूख, बेघर हुए आदिवासियों और मुल्क और ज़मीन की तलाश करने वाले तमाम गैर-मुल्की लोगों की भूख से मिलकर एक ऐसी दुनिया को हक़ीक़त बनाती है, जिसमें भूख, बेक़दरी, डर और बे-हिसाब यातनाएं हैं।

यह नावेल तोड़ने वाला नहीं जोड़ने वाला नावेल है। समीरा बेवफा नहीं है। तक़दीर की मारी है। वह एक दुखियारी माँ है, एक औरत है जिसे शौहर के साथ बच्चों का बाप चाहिए। यह अफ़साना एक तलाश है। तलाश की जद में मुहब्बत है और माँ की फ़िक्र शामिल है। नावेल में पांच बच्चों की माँ को दुश्मन मुल्क का फौजी पनाह और मुहब्बत देता है। आज जहाँ हर तरफ अपनी नस्ल की तलाश की जा रही है, सबको अपने जैसा बनाने की कोशिशें जोरों पर हैं, अपनी संस्कृति को जोड़ने की हिक़मत हिंसात्मक रूप अख़्तियार कर चुकी है, वहाँ निहायत अलग धर्म और संस्कृति के दुश्मन मुल्क के इंसानों के बीच मुहब्बत होना और उसे अंजाम तक पहुँचाना इस नावेल का हासिल है।

निश्चित रूप से मुहब्बत सीमेंट है, यह टूटने के दौर में जोड़ने का अज़माया नुस्ख़ा है। ‘अजनबी जज़ीरा’ में नासिरा शर्मा ने इस नुस्खे की ताकत को समझा है और उसे बहुत ईमानदारी से पेश किया है।

संदर्भ: 1. डेलरिंपल विलियम, आखिरी मुगल, पृ. 83, प्रकाशन - ब्लूम्सबरी               

-इलाहाबाद, मो. 9026258686

कहानी संग्रह 

  1. ‘शामी काग़ज़‘ (1980) शाह आर्या मेहर के दौर पर लिखी कहानियाँ जो दर्शाती हैं कि तब ईरान कैसा था। क्रान्ति से बेख़बर, सुख-सुविधा में डूबी जनता अन्दर ख़दबदाते लावे से लापरवाह थी।
  2. ‘पत्थर गली‘ (1986) इसकी सारी कहानियाँ एक विशेष परिवेश के दुःखसुख का बयान है। इलाहाबाद की गली का एक नाम है। यह नाम रूपक की तरह लिया गया है।
  3. ‘संगसार‘ (1993) शाह के जाने और इमाम ख़ुमैनी के आने तक जो समाज में उछाड़-पछाड़ में इन्सानी संवेदनाएँ जख़्मी हुई हैं, उसकी सनद है यह कहानियाँ।
  4. ‘इब्ने मरियम‘ (1994) विश्व स्तर पर होने वाली दुर्घटनाएँ और उससे आहत आम इन्सानों की व्यथा कथाएँ जो बेक़ुसूर ही सियासत और धर्म के पाटों में पिस जाते हैं।
  5. ‘सबीना के चालीस चोर‘ (1997) इस संग्रह की सारी कहानियाँ उन दस्तकारों और कामगारों पर आधारित है, जो हमारे सुख और जीने के लिए छोटे-छोटे काम करते हैं और स्वयं दुख झेलते रहते हैं। 
  6. ‘ख़ुदा की वापसी‘ (1998) शरियत ला को केन्द्र में रखकर जीवन की उन सच्चाइयों को सामने लाने वाली कहानियाँ जो केवल स्त्रियों के लिए नहीं बल्कि पूरे परिवार और समाज के लिए नासूर बन गयी हैं।
  7. ‘इन्सानी नस्ल‘ (2000) यह सारी कहानियाँ शुष्क होती इन्सानी संवेदनाओं और आपसी मतभेदों को उजागर करती हैं जो कटाक्ष करती हैं कि आदम की औलाद अपनी नस्ल में किस तरह की गैर इन्सानियत को सामने ला रही है जो खुद की दुश्मन
  8. ‘दूसरा ताजमहल‘ (2007) सात लम्बी कहानियों का यह संग्रह इन्सानी मनोविज्ञान से उपजी विषमताओं को दर्शाता है। एक नये धतराल पर नये दुखों एवं कठिनाइयों से जूझता है।
  9. ‘बुतखाना‘ (2002) लेखिका की पहली कहानी से लेकर समय≤ पर लिखी लघुकथाओं का संग्रह है।