कविता

डाॅ. उमा त्रिलोक, मोहाली, पंजाब, मो. 9811156310

मन्नत


माँगती हैं औरतें

मन्नतें

कभी पेड़ से

नदी से, पहाड़ से

देवी-देवताओं से

व्रत, पूजा, अर्चना से

दान पुण्य से

धर्म कर्म से


माँगती हैं

सुख समृद्धि

अपने लिए,

अपने परिवार के लिए


क्या हो जाती हैं पूरी

उनकी

मन्नतें ?


क्या

कभी नहीं मांगी

किसी ने मन्नत

न्याय के लिए ?


चलो आज मैं

आज़मा लेती हूँ

मन्नत को

माँग कर न्याय,

किसी पेड़ पर धागा बाँध कर

किसी मज़ार पर चादर चढ़ा कर

नदी, झरने या तालाब में; एक

सिक्का उछाल कर

मिल जाए जो न्याय

किसी निर्बल, बेबस को


न्याय ?


सुन कर

मन्नत,

हैरान हो गई


कहाँ है उस के पास

न्याय,

देने के लिए


होता, तो दे चुकती वह सदियों पहले 

फिर

न रहता कोई भूखा, प्यासा, लाचार


मन्नत,

ख़ाली ख़ाली

फटी फटी आँखों से

देखती रही, ख़ुद ही लाचार


मन्नत

बस

मन्नत बनी रही

Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में अन्तर्निहित जीवन-मूल्य

कर्मभूमि एवं अन्य उपन्यासों के वातायन से प्रेमचंद      

कुर्सी रोग (व्यंग्य)